त्रिपुरारी पूर्णिमा: गोवा का नाव उत्सव

गोवा का नाव उत्सव : त्रिपुरारी पूर्णिमा| अपने मस्त-मौला अंदाज के लिए पहचाने जाने वाले गोवा में त्रिपुरारी पूर्णिमा को भी खास अंदाज में मनाया जाता है। यही वजह है कि त्रिपुरारी पूर्णिमा के दिन गोवा में होने वाला नाव उत्सव धीरे-धीरे पर्यटकों के बीच अपनी पहचान बनाने लगा है।

गोवा का नाव उत्सव : त्रिपुरारी पूर्णिमा
गोवा का नाव उत्सव : त्रिपुरारी पूर्णिमा

इस दिन गोवा के विठ्ठलपुर गांव में वलवंती नदी के किनारे इसका आयोजन किया जाता है। समुद्र, नदियां और नावें गोवा के जनजीवन के साथ गहराई से जुड़े हैं। लोक जीवन या संस्कृति से जुड़े हर पहलू में यह जुडाव साफ दिखाई देता है। यही कारण है कि त्रिपुरारी पूर्णिमा के दिन नाव उत्सव मनाया जाता है।

गोवा का नाव उत्सव : त्रिपुरारी पूर्णिमा

 

गोवा के नाव उत्सव में होती है नाव बनाने की प्रतियोगिता

यह एक नाव बनाने की प्रतियोगिता होती है, जिसमें थर्मोकोल या कार्डबोर्ड से छोटे-छोटे खूबसूरत जहाज या नावें बनाई जाती हैं। बिल्कुल बडे जहाजों की तरह दिखाने देने वाले इन छोटे जहाजों को बड़ी मेहनत से तैयार किया जाता है। जहाजों को रंगबिरंगों कागजों से सजाया जाता है। आजकल इन जहाजों पर रोशनी का इंतजाम भी किया जाता है। रोशनी से जगमगाते रंगबिरंगे जहाज अनोखा समा बांध देते हैं। पूरे गोवा से लोग इस नाव प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए जुटते हैं। प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाले लोगों की संख्या 1000 तक पहुंच जाती है। आखिर में सबसे खूबसूरत नाव को पुरूस्कार भी दिए जाते हैं।

ये भी पढ़ें:  बस्तर पार्ट 1: यहां के शहरों की सामान्य जिंदगियां एक भ्रम हैं!

 

गोवा का नाव उत्सव : त्रिपुरारी पूर्णिमा

गोवा के नाव उत्सव में विशेष टूर का होता है आयोजन

उत्सव की शुरूआत शाम के समय भगवान कृष्ण की डोली को गाजे-बाजे के साथ नदी के किनारे लाए जाने से होती है। प्रतियोगिता के खत्म होने तक भगवान की डोली वहीं रहती है। इस दौरान पारम्परिक नाच गाने का दौर चलता है। उसके बाद नदी में जलते दीए प्रवाहित किए जाते हैं। पूरी नदी दीओं से जगमगाती है उस बीच जोर शोर के साथ नावें नदी के पानी में उतारी जाती हैं। नदी में उतरी रंगबिंरगी नावें बेहद खूबसूरत दिखाई देती हैं। धीरे – धीरे यह उत्सव इतना लोकप्रिय हो गया है कि इसे देखने बड़ी संख्या में पर्यटक भी जुटने लगे हैं। गोवा पर्यटन विभाग की तरफ से इस यात्रा को दिखाने के लिए विशेष टूर आयोजित किए जाते हैं।

 

स्थानीय संस्कृति की अनूठी झलक देखने को मिलती है

गोवा की स्थानीय संस्कृति की अनूठी झलक इस उत्सव के दौरान देखने को मिलती है। नाव प्रतियोगिता के साथ तरह के पारम्परिक संगीत और नृत्यों का प्रदर्शन होता है। पूरे विठ्ठलपुर गांव को रंगबिरंगी रोशनियों से सजाया जाता है। देर रात को आतिशबाजी का कार्यक्रम भी होता है । हिन्दु मान्यता के अनुसार त्रिपुरारी पूर्णिमा या कार्तिक पूर्णिमा को बेहद पवित्र माना जाता है। इस दिन देश भर में मेलों और उत्सवों का आयोजन होता है। माना जाता है कि इस दिन भगवान शिव ने त्रिपुरासुर नामक राक्षस का वध किया था।

ये भी पढ़ें:  बस्तर 9: सुकमा वाले रास्ते में जीरम हत्याकांड से गुजरता वर्तमान और इतिहास

तो अगर आप गोवा की अनूठी और मस्त मौला जिंदगी की एक झलक देखना चाहते हैं, वहां के स्थानीय जन-जीवन से रूबरू होना चाहते हैं तो एक बार गोवा के नाव उत्सव में जरूर शामिल हों।

(यह ब्लॉग अंकित कुंवर ने संपादित किया है। अंकित चलत मुसाफ़िर के साथ इंटर्नशिप कर रहे हैं।)


ये सुंदर जानकारियां लिखी हैं दीपांशु गोयल ने। दीपांशु वरिष्ठ पत्रकार और अनुभवी घुमक्कड़ हैं। अपने देश के अलावा कई सारे देशों में इनके यात्री कदम पहुंचे हैं। दीपांशु जहां भी घूमने जाते हैं, वहां के बारे में बहुत ही विस्तार से वृतांत भी लिखते हैं।

Leave a Comment