कहां है हनुमान की 108 फीट ऊंची मूर्ति

जाखू मंदिर हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक है। पहाड़ी पर राज्य सरकार द्वारा विभिन्न ट्रैकिंग और पर्वतारोहण गतिविधियां आयोजित की जाती हैं। जाखू मंदिर की चोटी से शिमला शहर का नज़ारा देखने का आनंद ही कुछ और है। यहां आने वाले पर्यटक 2100 मीटर से अधिक की ऊंचाई से कई किलोमीटर दूर तक परमपिता की अद्भुत चित्रकारी का आनंद उठा सकते हैं।

padmasambhav मंडी, हिमाचल प्रदेश

मंडी, हिमाचल प्रदेश: डरावने रास्ते, 8वीं सदी की एक गुफा

मंडी, हिमाचल प्रदेश | अगर आप रोमांच के खोजी हैं तो हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में जरूर आएं। मंडी में एक ऐसी जगह भी है जिसके बारे में लोग बहुत कम जानते हैं, एक रहस्यमयी बौद्ध गुफा। रेवाल्सर नगर पंचायत से कुछ ही दूरी पर है यह बौद्ध गुफा। यहां जाते वक्त लोगों के मन में एक अजीब सा डर बना रहता है। ज्यादातर लोग वहां जाने से कतराते हैं।

गुफा को और भी रहस्यमय बनाता है वहां तक जाने वाला रास्ता। कई लोग तो आधे रास्ते से ही वापस लौट आते हैं। लेकिन हम गए और स्टोरी भी की। वीडियो देखिए और सबको दिखाइए। और हां, सब्सक्राइब करना मत भूलिए हमारा यूट्यूब चैनल।


ये भी पढ़ें:

बनारस में होने वाली सूर्योदय आरती है भारत में सबसे अलग

बनारस में सूर्योदय की आरती अस्सी घाट पर होती है। यहां होने वाली आरती भारत में होने वाली सभी आरतियों से अलग है। यहां मंत्रोच्चारण लड़कियां करती है। पाणिनि कन्या महाविद्यालय की अध्यापिका इस आरती का नेतृत्व करती हैं। इन्हीं की निगरानी में सुबह का यज्ञ भी होता है। लड़कियों की मीठी आवाज से रोज सुबह सूर्य को आवाह्न दिया जाता है।


ये भी देखें:

वो जगह जो दुनिया के हर इंसान को अपनी तरफ खींच लेती है

बनारस की गलियों में बसा कोरियन कुजीन

बनारस में बनने वाले व्यंजनों को तो कई लोगों ने चखा ही होगा। पर ऐसे कई विदेशी कुजीन है जो बनारस में उतने ही लोकप्रिय हैं जितना की यहां का लिट्टी चोखा और ठंडई। गंगा घाट की गलियों में आपको कई रेस्टोरेंट मिल जाएंगे जहां आप कोरियाई खाने का मजा ले सकेंगे। इन रेस्टोरेंट को बनारस के ही लोग चला रहे हैं, जो कोरियन भाषा में भी बात करते हैं।


ये भी देखें:

औली की शानदार ट्रिप

बोकारो

बोकारो: एक उद्योग नगरी जो रात के नौ बजते ही सो जाती है

झारखंड स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस नई दिल्ली स्टेशन से 22 घंटे की यात्रा पूरी कर एक स्टेशन पर रुकती है। बाहर झांकने पर प्लेटफॉर्म के आखिरी छोर पर पीले रंग का एक बड़ा से चौकोर बोर्ड दिखा। इस पर काले रंग से लिखा था बोकारो स्टील सिटी।

उत्तराखंड

उत्तराखंड: शहर जकड़ता है, हम जी छुड़ाकर पहाड़ों पर भागते हैं

उत्तराखंड के ऋषिकेश, गुप्तकाशी, केदार घाटी में बिताए गए शानदार पल. शहर की बंद हवा से निकलकर पहाड़ों की आगोश में जाना हमेशा उत्साह बढ़ाने वाला है.

बस्ती! नाम तो सुना ही होगा

बस्ती, उत्तर प्रदेश का एक छोटा सा लेकिन ऐतिहासिक और पौराणिक नजरिए से काफी जरूरी जगह है. भारत के छोटे से कोने के बारे में बड़ी-बड़ी बातें जानते हैं.

जोशीमठ-औली रोपवे है एशिया का दूसरा सबसे लंबा गंडोला टूर

मजेदार जगह है औली और उससे भी मजेदार है, जोशीमठ से औली तक का गंडोले पर सफर। इस रोमांचक रोपवे से गुजरकर जब आप औली की हसीन वादियों में पहुंचते हैं तो अल्लाह कसम, वहां से लौटकर आने का मन तो कतई नहीं करता। लेकिन लौटते वक्त रस्सी पर लटकी चेयरकार से जब सरकते हुए नीचे की तरफ आते हैं तो वापस आने की मजबूरी कम कचोटती है।


ये भी देखें

मंडी जिले की इस गुफा में हर कोई जाने से डरता क्यों है?

पुरानी दिल्ली की वो मिठाई जिसके चाहने वाले हैं दुनिया भर में

हब्शी हलवा सर्दियों में मिलने वाली एक मिठाई है, जिसे बनाने में तकरीबन आठ घंटे लगते हैं। इसे दूध, खूब सारे घी, बहुत सारे ड्राई फ्रूट के साथ बनाया जाता है। यह केवल अक्टूबर से मार्च के बीच में ही मिलता है। इसलिए इसकी बुकिंग पहले से ही हो जाती है। देश ही क्या देश से बाहर भी इसकी बहुत डिमांड है।