गंगा-वरुणा के संगम पर बनी एक मजार, जिसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं

बनारस में गंगा-घाटों के बारे में सबने बहुत सुना है। गंगा के पहले घाट ‘आदिकेशव’ के पास है चंदन सयैद की मजार। वहां आने वाले लोगों का मानना है  कि चंदन सयैद ने मजहब और मानवता के लिए बड़ी-बड़ी कुर्बानियां दी है। इस जगह के बारे में बहुत कम लोगों को ही जानकारी है। यहां जो जोड़ी कव्वाली गायी जाती है उसका तो जवाब नहीं। आवाज ऐसी कि रूह छू जाए। इस जुगलबंदी को सुनकर कई लोग तो अपने आंसू रोक ही नहीं पा रहे थे।


ये भी देखें:

सोनू नाम के इस बोट चालक को क्यों हो जाना चाहिए फेमस

बनारस की गलियों में बसा कोरियन कुजीन

बनारस में बनने वाले व्यंजनों को तो कई लोगों ने चखा ही होगा। पर ऐसे कई विदेशी कुजीन है जो बनारस में उतने ही लोकप्रिय हैं जितना की यहां का लिट्टी चोखा और ठंडई। गंगा घाट की गलियों में आपको कई रेस्टोरेंट मिल जाएंगे जहां आप कोरियाई खाने का मजा ले सकेंगे। इन रेस्टोरेंट को बनारस के ही लोग चला रहे हैं, जो कोरियन भाषा में भी बात करते हैं।


ये भी देखें:

औली की शानदार ट्रिप