पटना टू सिंगरौली.. इंडिया से भारत का सफर

अविनाश चंचल। जो लोग सोशल मीडिया पर जुटे रहते हैं और जिनका इंट्रेस्ट नंबर वन पर ट्रैवेल हो, वो लोग अविनाश से अपरिचित हों ये असंभव है। फक्कड़ और घुमक्कड़, ये दो विशेषण हैं जो इनके नाम के प्रीफिक्स हमेशा बने रहेंगे। अविनाश अभी सिंगरौली घुमाने ले जाना चाहते हैं आपको, तैयार हो जाइए।


सिंगरौली लौट आया हूं। कभी पहाड़ों के ऊपर तो कभी उनके बीच से बलखाती हुई निकलती पटना-सिंगरौली लिंक ट्रेन। बीच-बीच में डैम का रुप ले चुकी नदियों और उनके ऊपर बने पुल तो कभी पहाड़ों के पेड़ से भी ऊंची रेल पटरी से गुजरती ट्रेन। जंगल में उदास खड़े चट्टान और थोड़ी दूर-दूर पर खड़े अपने-अपने अकेलेपन के साथ पेड़। ट्रेन की खिड़की से झांकती मेरी आंखे और बीच-बीच में कैमरे का क्लिक। दूसरी तरफ मेरे हाथों में नाजियों द्वारा तबाह-बर्बाद कर दिए गए कस्बे लिदीत्से पर निर्मल वर्मा का यात्रा संस्मरण।

मानो लिदीत्से पर किए गए उस नाजी अत्याचार को फोटो खींच रहे हों वर्मा। तय करना मुश्किल था कि इन पहाड़, जंगल और नदी को देखता रहूं, जो शायद कुछ सालों बाद मानव सभ्यता के विकास के नाम पर बर्बाद कर दिए जाएंगे या फिर नाजियों के द्वारा जलाए गए बच्चों की स्कूल जाती तस्वीर और मार दी गयी औरत के नीले स्कार्फ के संस्मरण पढ़ता रहूं। आखिर क्या अंतर है उस जर्मनी के नाजी अत्याचार और इस दुनिया के महान लोकतंत्र वाले देश में जहां जल-जंगल-जमीन-जन की रोज विकास के नाम पर हत्या की जा रही है?

ये भी पढ़ें:  मगहरः जहां कबीर ने लाया सभी धर्मों को एक जगह
सिंगरौली का कोल प्लांट

लोगों से सुनता हूं कि कुछ साल पहले तक सिंगरौली जैसे इलाकों में जब ट्रेन किसी रेल फाटक से गुजरती थी तो पहले ट्रेन का ड्राइवर उतर कर फाटक बंद करता था फिर फाटक गुजर जाने पर कोई सवारी या गार्ड उतर फाटक बंद कर देता और ट्रेन आगे बढ़ती। छोटे-छोटे स्टेशनों पर लोग उधर से गुजरने वाली इक्का-दुक्का एक्सप्रेस ट्रेनों को हाथ देकर रोकते, अपने संबंधियों के आने तक ट्रेन रोकने का अनुरोध करते या फिर पूरा सामान उतारने तक ट्रेन को रोके रखने को कहते। ट्रेन के ड्राइवर भी जानते थे कि आने-जाने के लिए यही ट्रेन सहारा है इसलिए आराम से चलते थे। कोई हड़बड़ी नहीं। वैसे भी यहां के लोगों में भागमभाग कम ही देखता हूं। जब से यहां आया हूं भूल जाता हूं कि कौन सा दिन है, क्या तारीख है, क्या महीना, क्या समय। समय मानो खुद दो-तीन दिन पीछे चल रहा हो। हमारी सरकारें, इन सुस्त पड़ गयी जिंदगी की रफ्तार को विकास के सहारे भगाना चाहती हैं। ऐसा भागमभाग, ऐसी दौड़ जो अंधेरे गली में जाकर खत्म होती है।

रास्ते में हम ऐसे-ऐसे स्टेशन गुजरते हैं जहां आपको रिसीव करने के लिए ऑटो, कार, बाइक सब प्लेटफॉर्म पर ही खड़े मिल जाएंगे। ट्रेन के दरवाजे से नीचे उतरकर सीधा ऑटो में चले जाईये। एक स्टेशन पर टीशन मास्टर साब गंजी बनियान में ट्रेन को हरी झंडी हिलाते दिखते हैं तो दूसरे स्टेशन पर ऊंघता हुआ फाटक मेन ट्रेन गुजर जाने के बाद हड़बड़ाता हुआ पीछे से हरी झंडी दिखा रहा है।

ये भी पढ़ें:  सिक्किम में है असली स्वच्छ भारत, घूमकर आइए दिल खुश हो जाएगा

जंगल-पहाड़-नदी एक खूबसूरत लैंडस्केप बना रहे हैं। बीच-बीच में दूर कहीं बस्ती के नाम पर दो-तीन घरों का आभास भी हो रहा है जो पहाड़ों की ओट में दिखते-छुपते चल रहे हैं। मानो ये सब हकीकत नहीं एक कैनवास हो जिसके भीतर मैं पहुंच गया हूं। ट्रेन की खिड़की से देखते-देखते मैं दरवाजे पर खड़ा हो जाता हूं। मन करता है उतर जाऊं इन्हीं पहाड़ियों-जंगलों में। अपना अतीत, भविष्य सबकुछ भूलकर यहीं का हो जाऊं लेकिन रेणुकूट आते-आते सबकुछ वैसा ही नहीं रह जाता। प्लांट्स, उनके साए में बनी झुग्गियों में जिंदगी और चिमनी से उठता धुंआ मानो पूरे कैनवास पर धूंधलापन सा छा जाता है। मन अजीब होने लगता है। आसमान में बादल और चिमनियों के धुंए का फर्क करना मुश्किल है। अब रास्ते में प्लांट्स के साथ-साथ बिजली के बड़े-बड़े तार, ग्रेनामाइट से उड़ाए गए या क्षत-विक्षत कर दिए गए पहाड़ो के चट्टान सब मिलकर एक विद्रुप रेखाचित्र लगने लगते हैं। बीच-बीच में आदिवासी महिलाएं माथे पर लकड़ियों का गट्ठर उठाए एक पगडंडी बना चलती दिखती हैं। इस इलाके के आदिवासियों-मूलवासियों की स्थिति ये बताने के लिए काफी होती है कि विकास ने कितना और कितनी बार इन्हें छला है।

हां, एक बात और, एक घुमावदार रास्ते पर मैं खिड़की से झांक कर देखता हूं तो खुद को ट्रेन के सबसे पिछले बोगी में पाता हूं। मैं दौड़ कर दरवाजे तक जाता हूं। लगभग पटना से बारह बोगियों को लेकर चली ट्रेन रेणुकूट आते-आते तीन बोगियों का बन जाता है। बाद में एक साथ वाले यात्री ने बताया। हमारी ट्रेन की रफ्तार धीमी हो गई है और कोयले लदी मालगाड़ियां तेजी से पास करायी जाने लगी हैं। युवा आदिवासी कवि अनुज लुगुन की एक कविता की पंक्तियां याद आती है जिसमें वो बताते हैं कि कैसे उनका पहाड़ ट्रकों पर लद शहर की ओर जा रहे हैं। यहां भी कुछ वैसा ही है। यहां के लोगों की जिंदगी को तबाह कर उनके पहाड़ खोद कोयले को रेल डिब्बों में भर कहीं दूर भेजा जा रहा है।

ये भी पढ़ें:  भारत में घूमने के असली मजे तो भइया यहां हैं

धीरे-धीरे हमारी ट्रेन सिंगरौली पहुंचने को होती है। सिंगरौली वो फिल्म जिसमें कोयला खनन करने वाली पावर प्लांट्स विलेन बने हुए हैं और वो खैरवार, वैगा जैसे समुदाय के आदिवासी हीरो नजर आते हैं जो लगातार अपनी जमीन-जंगल को खोकर भी जी रहे हैं और बचे हुए जंगल-जमीन को बचाने के लिए अनवरत संघर्षरत है। आज से नहीं आजादी के बाद से ही। इस भागते-दौड़ते अर्थव्यवस्था वाले कॉरपोरेटी लोकतंत्र से लड़कर जीतना महत्वपूर्ण तो है ही लेकिन उससे ज्यादा महत्वपूर्ण है लड़ने की ललक, अपने अधिकार-रोटी-रोजी को बचाने की आकुलता। जो हारने के बाद भी इन्हें इस फिल्म का हीरो बनाते हैं।


ये भी पढ़ेंः

हवाओं को एक ओर धकेलते हुए जब सब छोड़ कहीं उड़ जाने का मन करें

2 thoughts on “पटना टू सिंगरौली.. इंडिया से भारत का सफर”

  1. सर, मैने सिंगरौली में स्थित विंध्यनगर NTPC में CISF का टेस्ट दिया था, तो सिंगरौली व उसके आस पास के सभी इलाकों का भ्रमण किया था, तो आपका ये लेख मुझे फिर से वहीं खींच ले गया।

    Reply

Leave a Comment