क्यों नहीं जाना चाहिए क्रिसमस-न्यू ईयर पर गोवा

प्रदीप सुरीन पत्रकार हैं। ये इत्ता घूमते हैं कि दोस्त-यार बोलते हैं, तुम पहिया पर पैदा हुए थे क्या। जवाब में ये कहते हैं कि जब तक सौ पचास लोगों को अपनी ट्रिप से जला न लिया जाए तब तक काहे का घूमना। खुशमिजाज इंसान हैं, सस्ते से जोक पर भी ठहाका मारकर हंसते हैं। दोस्तों को पार्टी देने का वायदा करके भूल जाते हैं। अभी याद से जरूरी बात रहे हैं, पढ़ो आप सब।


मैं जानता हूं कि आप में से ज्यादातर इस हेडिंग को ही बेतुका बोल रहे होंगे। लेकिन अगर मैने ये हेडलाइन चुना है तो कोई कारण जरूर होगा। उत्तर भारत या यूं कहें कि दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और पूरे एनसीआर में रहने वाले युवाओं से अगर पूछा जाए कि इस क्रिसमस या न्यूईयर पर कहां जाना चाहोगे तो ज्यादातर गोवा जाने की बात ही सोच रहे होंगे।

मैं पिछले पांच सालों में लगभग पांच से ज्यादा बार गोवा की सैर कर चुका हूं। अच्छी बात ये है कि मैने साल के अलग-अलग महीनों में यात्रा किया। ये बताना इस लिए भी जरूरी है क्योंकि आप एक राज्य विशेष के विभिन्न रंगों को समझ सकते हैं। अब मैं आपको उन वजहों को बताता हूं जो आपको भी सोचने को मजबूर कर देगा।

वजह नंबर एक: नो रूम

आपने पिछले सालों में कई ऐप इस्तेमाल किए होंगे। ट्रिवागो, एमएमटी, ओयो वगैरह-वगैरह। दिसंबर महीने के शुरु होने के साथ ही सभी ऐप और होटलों में रोज के हिसाब से कीमतें बढ़ने लगती हैं। 20 दिसंबर से 5 जनवरी के बीच तो सस्ते होटल भूल ही जाइए। खैर, अब आप होटलों की जगह कोई दूसरे जुगाड़ के बारे में सोच रहे होंगे। ऐसा मैने भी सोचा और किसी अपार्टमेंट या घर को कुछ दिनों के लिए रेंट पर लेने की सोची। लेकिन आप जानकर हैरान होंगे कि इन दिनों में कोई अपार्टमेंट या घर किसी फाइव स्टार होटल के किराए से भी मंहगे हो जाते हैं।

ये भी पढ़ें:  तेज बर्फीली हवाओं से घिरा नाभीडांग

वजह नंबर दो: स्कूटी किराए पर लेने से खरीदना सस्ता

जी हां, आमतौर पर गोवा घूमने के लिए हर इंसान दिल चाहता है सिनेमा की तरह मोटर साईकिल या स्कूटी लेना चाहता है। लेकिन यहां भी एक झोल है। 20 दिसंबर के बाद स्कूटी किराए पर लेना इसे कैश खरीद लेने से मंहगा पड़ने वाला है। दरअसल पूरे गोवा में स्कूटी किराए पर देने वाले एजेंट अपनी पूरी कमाई इन्हीं दिनों में करना चाहते हैं। ग्राहको की डिमांड को देखते हुए रोजाना एक स्कूटी का किराया 1000-1500 रुपए तक ऐंठना शुरु करते हैं। इसमें भी खास बात यह है कि 25-31 दिसंबर तक डिमांड के हिसाब से 2500 रुपए तक वसूले जाते हैं।

वजह नंबर तीन: आप कतार में हैं

अब तक कतार वाला शब्द आपने किसी हेल्पलाइन नंबर में सुना होगा। लेकिन क्रिसमस-न्यू ईयर के दौरान कतार शब्द आपको हर जगह महसूस होगा। मसलन कोई भी परिवार या कपल चाहता है कि गोवा आकर एक बार क्रूस में जरुर जाए। आम तौर पर क्रूस में सवारी बड़े आराम से हो जाता है। लेकिन फेस्टिवल सीजन में आपको मात्र 20-25 मिनट के क्रूझ सवारी के लिए 2-3 घंटे इंतजार करना पड़ सकता है। कतार का सिलसिला यहीं भर खत्म नहीं होता।

ये भी पढ़ें:  वो मंदिर, जहां का पानी पीकर ठीक हो गया था औरंगजेब का सेनापति

आप चाहते हैं कि शाम हो चली है क्यों न समुद्र किनारे किसी अच्छे से पब या बार में जाकर थोड़ा मंनोरंजन किया जाए या फिर दो-तीन बियर गटके जाएं। अफसोस आपकी जेब में पैसा होने पर भी शायद इन पबों या क्लबों में एंट्री न मिले। कारण सभी के सभी हफ्ते भर पहले से ही प्री-बुक हो चुके होते हैं। किसी भी नामचीन पब से आपको सिर्फ यही आश्वासन मिलेगा कि अगर गेस्ट नहीं आए तो फिर आपको 10-11 बजे तक बताया जाएगा। एक तरह से न ही जाना बेहतर होगा।

वजह नंबर चार: बीच से ज्यादा मंहगी वाली किचकिच

जैसा आपने फिल्मों में देखा है; साफ, सुंदर और शांत बीच, वैसा तो आप इस खास समय में बिलकुल नहीं देख सकते। पूरे उत्तर भारत के युवाओं के गोवा में बढ़ती जा रही भीड़-भाड़ आपको मजा से ज्यादा सजा देने वाली हो सकती है। बागा से लेकर केंडुलम बीच तक सभी खचाखच भरे रहते हैं। सुकून से नहाना तो क्या आप शांति से बैठ तक नहीं सकते। उसमें बुरा ये है कि अगर किसी तरह आप वाटर स्पोर्टिंग करना चाहें तो पहले अपनी पारी के लिए लंबा इंतजार कीजिए। उसके बाद दोगुने से भी ज्यादा पैसे खर्च करके इनका मजा लीजिए।

ये भी पढ़ें:  कौन हैं चलत मुसाफ़िर!

तो क्या कोई जुगाड़ नहीं है

अगर इन परेशानियों के बाद ही आप कोई जुगाड़ सोच रहे हैं तो भी मैं आपको निराश नहीं करूंगा। हां गोवा घूमने के लिए कुछ जुगाड़ तो लगाए ही जा सकते हैं। मसलन, अगर आप अभी भी बिना परेशानी और दिक्कतों के गोवा घूमना चाहते हैं तो मैं आपको साउथ गोवा जाने की सलाह दूंगा। यहां आज भी कम ही भीड़ होती है। बीच शांत और उत्तरी गोवा से ज्यादा खूबसूरत भी हैं। ताजा खाने के साथ-साथ आपको होटल भी किफायती दामों में उपलब्ध होते हैं।

खैर मेरी सलाहों को सलाह ही लीजिए, लेकिन जरूरी नहीं कि इन पर अमल भी किया जाए। सब जानते हैं कि गोवा इन दिनों मंहगा हो ही जाता है। लेकिन इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता कि अगर क्रिसमस और न्यू ईयर में आपने अपने फेसबुक में चेक-इन गोवा का नहीं डाला तो क्या फायदा। मेरी ओर से आप सभी को एडवांस में हैप्पी वाला हॉलीडेज।


ये भी पढ़ें:

मशहूर हिल स्टेशनों पर क्यों नहीं जाना चाहिए

Leave a Comment