दशहरा की राम-राम: कुछ अलग तरीके से मनाते हैं बुंदेलखंड में दशहरा

आज पूरे देश में में दशहरा धूमधाम से मनाया जा रहा है। कहीं रावण को जला रहे हैं, कहीं पूजा की जा रही है और कहीं पीटा जा रहा है। अलग-अलग जगह की अपनी-अपनी मान्यताएं हैं। ऐसे में मुझे अपने बुंदेलखंड याद रहा है, अपना घर और अपना गांव याद आ रहा है। जो दशहरा पर भी दीपावाली की तरह सज जाता है। बुंदेलखंड तो हमेशा से परंपरा को निभाते आ रहा है। आज भी बुंदेलखंड में गांव की संस्कृति देखी जा सकती है और ये सब देखकर मुझे देखकर गर्व होता है कि मैं उसी बुंदेलखंड धरा से हूं। बुंदेलखंड में दशहरा को सिर्फ रावण जलाकर नहीं मनाते, हम उस दिन खुशियां आपस में बांटते हैं।

पान

पान, जिसमें रस और मिठास का गुण पाया जाता है। वो पान दशहरा पर हम समरसता के प्रतीक के रूप में खाते हैं। उस पान को खाने का भी एक तरीका है। ये नहीं कि दुकान पर गये और खरीदकर खा लिये। उस दिन हम प्यार के रूप में सबको खिलाते हैं। बुंदेलखंड की इस पान की संस्कृति पर विस्तार से बात करते हैं।

ये भी पढ़ें:  अलवर: क्या हर छोटे शहर में औरतों की नियति घरों में दुबका रहना होता है


दशहरा के एक-दिन पहले ही गांव के लोग बाजार जाकर पान लगाने का पूरा सामान खरीद लेते हैं। दशहरे के दिन पहले रावण दहन होता है, उसके बाद घर में पूजा होती है। पूजा में बाजार से लाये हुये पान में से एक पान लगाकर भगवान को चढ़ाते हैं और फिर अपनी पोटली लाकर घर के बाहर बैठ जाते हैं।

पान को बनाने में सुपाड़ी, कत्था सब इस्तेमाल होता है। पूजा करने के बाद लोग एक-दूसरे के यहां जाते हैं और दशहरा की बधाई विशेष संबोधन ‘दशहरा की राम-राम’ से करते हैं। इसके बाद सामने वाला उत्तर देता है और एक मीठा पान लगाकर उसे दे देता है।

पूरे गांव में, सभी के घर के बाहर ऐसी दुकानें लगा होती हैं। मुझे याद है, जब मैं छोटा था तो एक बार पूरे गांव के घर-घर घूमकर इतना पान खाया था कि अगली सुबह मेरा मुंह दर्द कर रहा था और गाल सुपाड़ी से छिल गया था। घर के बड़े जब ये दुकान लगाते हैं तो वे ध्यान रखते हैं कि किसे कौन-सा पान खिलाना है। जो बड़े लोग होते हैं उनको चूना लगा पान लगाया जाता है और हम जैसे बच्चों को सादा पान दिया जाता था। तब हम बहुत गुस्से से उनको देखते थे कि हमारे साथ ऐसा पक्षपात क्यों?

ये भी पढ़ें:  काशी में ही इतना आकर्षण हो सकता है, जो अजनबियों को भी अपना बना ले
रावण दहन भी होता है।

बुंदेलखंड के दशहरे की दिन की शुरूआत की अलग ढंग से होती है। सुबह-सुबह कुछ शुभ देखने की एक परंपरा रहती है। मछुआरे एक डिब्बे में मछली को पानी में डालकर घर-घर जाकर दिखाते हैं और गांव वाले उनको कुछ अंश देते हैं जो उनकी अजीविका भी होती है। कहा जाता है कि इस दिन मछली के दर्शन करने से आपका साल अच्छा बना रहता है।

फिर शाम को रावण के दहन के बाद पूजा होती है। पूजा के बाद भी लोग एक-दूसरे के सम्मान के लिए पान खिलाते हैं। दशहरा में इस पान का बुंदेलखंड में बहुत महत्व है। पहले राजदरबार में अतिथि के स्वागत के लिए पान खिलाने का ही चलन था। आज के दिन मुझे वो पान बड़ा याद आ रहा है। हमें दशहरा के दिन रावण को जलाने की उतनी खुशी नहीं होती थी जितना घर-घर जाकर ‘दशहरा की राम-राम’ कहकर पान खान की।

आज दशहरे पर मैं रावण को जलते हुए तो देख लूंगा लेकिन वो गांव का पान कहां से आएगा जो बिना कहे ही मेरे मुंह में ठूंस दिया जाता था। उस पान की टीस एक बुंदेलखंड का ही व्यक्ति ही समझ सकता है, जैसे कि इस समय मैं।

ये भी पढ़ें:  मॉफलांग: मेघालय का वो पवित्र वन, जहां वनदेवता भेस बदलकर आते हैं!

बुंदेलखंड के दशहरे के बारे में हमें लिख भेजा है हमें लिख भेजा है ऋषभ देव ने। अपने बारे में वो बताते हैं, अपनी घुमक्कड़ी की कहानियां लिखना मेरी चाहत और शौक भी। जो भी देखता हूं, उसे शब्दों में उतारने की कोशिश में रहता हूं। कहने को तो पत्रकार हूं, लेकिन फिलहाल सीख रहा हूं। ऋषभ मूलतः वीरों की भूमि बुंदेलखंड से ही हैं।


ये भी पढ़ेंः

मूक रामलीलाः खतरे में राजस्थान की एक खूबसूरत पुरानी परंपरा

छत्तीसगढ़: यहां दशहरा पर लोग रावण क्यों पूजते हैं?

Leave a Comment