चांदनी चौक में मिलने वाली बर्फी, जिससे तोड़ने के लिए पलंग का इस्तेमाल हुआ

पलंगतोड़ बर्फी सिर्फ दूध, खोया और चीनी से बनी मिठाई है। चांदनी चौक में गुरूद्वारे के पास है मोटे लाला की दुकान। यहीं मिलती है फेमस पलंगतोड़ बर्फी। खाने में बहुत स्वादिष्ट होती है। पहली बार इसे तोड़ने के लिए पलंग का सहारा लेना पड़ा था, जिससे इसका नाम पलंगतोड़ मिठाई पड़ा।


ये भी पढ़ेंः

दिल्ली की सबसे स्वादिष्ट कुल्फी खानी है तो यहां पर जाइए

ये भी देखें:

पुरानी दिल्ली की ये रंग-बिरंगी कुल्फियां नहीं खाईं अबतक तो जीवन व्यर्थ है आपका

अगर कोई बेहतरीन कुल्फियों की तलाश में हैं तो उसे एक बार पुरानी दिल्ली जरूर आना चाहिए। एक काम करिए आज ही चावड़ी बाजर मेट्रो स्टेशन पर उतर जाइए, वहां से पूछते-पाछते कूचापति राम गली में चले आइए। वहां पहुंचकर किसी से भी पूछ लीजिए, कुरेमल कुल्फी कहां मिलेगी। लोग आपको वहां तक खुद छोड़ आएंगे। सौ साल पुरानी इस दूकान में कुल्फी को फलों के अंदर ही जमाया जाता है। अनार,सेब,संतरा और शरीफा जैसे फलों वाली कुल्फी का लुफ्त उठा सकते हैं। ये बहुत स्वादिष्ट हैं और निःसंदेह हेल्दी भी।


ये भी देखें:

दिल्ली की इस बेहद पुरानी मिठाई का पाकिस्तानी कनेक्शन

बनारस की गलियों में बसा कोरियन कुजीन

बनारस में बनने वाले व्यंजनों को तो कई लोगों ने चखा ही होगा। पर ऐसे कई विदेशी कुजीन है जो बनारस में उतने ही लोकप्रिय हैं जितना की यहां का लिट्टी चोखा और ठंडई। गंगा घाट की गलियों में आपको कई रेस्टोरेंट मिल जाएंगे जहां आप कोरियाई खाने का मजा ले सकेंगे। इन रेस्टोरेंट को बनारस के ही लोग चला रहे हैं, जो कोरियन भाषा में भी बात करते हैं।


ये भी देखें:

औली की शानदार ट्रिप

लखनऊ आएं तो राहुल के ठेले पर आना न भूलें

लखनऊ के चौक पर जाइए। वहां से पास में ही है अकबरी गेट। तीन गलियां आगे जाकर मिलेगा आपको राहुल का ठेला। जहां आपकी नवाजिश की जाती है सात मसाले वाले गोल गप्पे से। हींग से लेकर सौंफ वाले मसालों के गोल गप्पे.. आहा! वैसे तो ये छोटा सा ठेला है पर यहां आने वाले ग्राहकों की कमी नहीं। चटोरपंथी का एक ही ईमान है और वो है मजेदार स्वाद।


ये भी देखें:

बनारस के घाट पर लीजिए कोरियन खाने का मज़ा